समर्थक

गुरुवार, 25 अक्तूबर 2012

आईये मिलते हैं श्री राहुल गाँधी जी से -


भारतीय  राजनीति  में आने वाला रविवार इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाने की प्रबल  सम्भावना  है जब  जन जन के प्रिय  नेता  श्री  राहुल गाँधी  कैबिनेट   में शामिल   होंगें -
''Rahul Gandhi may get a berth after Cabinet reshuffle on Sunday TOI 9 hrs ago
NEW DELHI: Prime Minister Manmohan Singh is expected to shuffle his Cabinet on Sunday in an exercise that may carry Congress general secretary Rahul Gandhi's stamp and mark an end to the long wait among ministerial aspirants in party ranks. ''

आईये मिलते हैं श्री राहुल गाँधी जी से -


shri rahul gandhi
[facebook se sabhar ]



यूं तो  राहुल गाँधी जी का जीवन एक खुली किताब की तरह है .स्व .श्री राजीव गाँधी जी व्  सोनिया गाँधी जी के सुपुत्र  राहुल जी का जन्म  19 जून  १९७० को  नईदिल्ली में हुआ .राहुल जी ने ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज  यूनिवर्सिटी [  यूं..के. ]से डेवलपमेंट इकोनोमिक्स  में एम् .फिल  की डिग्री  हासिल की है .राहुल जी की - प्राथमिक शिक्षा के उन्नतिकरण ,समाज के दलित व् अन्य   शोषित वर्गों   के सशक्तिकरण  से सम्बंधित  मुद्दों में,अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों- आदि में विशेष  रुचि है .खेलों में राहुल जी को-Scuba  diving  , swimming  , cycling  , playing squash में विशेष दिलचस्पी है .इतिहास ,समाज शास्त्र,अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध ,विकास,प्रबंधन व् जीवनी आदि विषयों को पढना  उन्हें   भाता है  व् शतरंज व् flying  उनके प्रिय समय व्यतीत करने के साधन है . अब तक  वे  निम्न   पदों को सुशोभित कर चुके हैं  -

Positions Held
2004
Elected, to 14th Lok Sabha
Member, Committee on Home Affairs
5 Aug. 2006
Member, Committee on Home Affairs
5 Aug. 2007 onwards
Member, Committee on Human Resource Development
2009
Re-elected to 15th Lok Sabha (2nd ter
31 Aug. 2009
Member, Committee on Human Resource Development


एक लोकसभा सदस्य के रूप में राहुल जी का  परिचय  इस  प्रकार  है --'' Details of MemberParticularsDescriptionNameShri Rahul GandhiConstituency from which I am electedAmethiState from which I am electedUttar PradeshPolitical party nameIndian National CongressPresent Address12, Tughlak Lane,New Delhi - 110 011Tels. (011) 23795161 Fax. (011) 23012410Permanent Address12, Tughlak Lane,New Delhi - 110 011Tels. (011) 23795161 Fax. (011) 23012410''[india.gov.in से sabhar ]


ये तो हुई राहुल जी के विषय में वे जानकारियां  जो सबको दिखाई देती हैं पर आज  मैं  यहाँ उनकी उन  विशेषताओं  का उल्लेख भी करना चाहूंगी  जिन्हें  केवल हम तभी देख सकते हैं  जब हम राजनैतिक रूप से निष्पक्ष होकर देखें  .१४ वर्ष की किशोर आयु में अपनी दादी की नृशंस   हत्या का हादसा झेलने वाले राहुल जी के धैर्य  की कड़ी परीक्षा  लेने में क्रूर प्रकृति ने कोई दया नहीं की .२१ मई १९९१ की रात को जब उनके स्नेही पिता राजीव जी की एक बम विस्फोट में नृशंस हत्या की गयी तब वे भारत में नहीं थे .जिसने भी अपने किसी प्रिय परिवारीजन को हादसे में खोया होगा वह उस समय के उनके हालात...मानसिक अवस्था को सहज  ही  महसूस   कर सकता है .किस तरह २१ वर्षीय उस युवा राहुल ने झेला  होगा यह हादसा !........आज जब स्वामी सुब्रमण्यम  जैसे तथाकथित  ज्ञानी राहुल जी को ''बुद्धू'' कहकर  उनकी खिल्ली उड़ाने  का प्रयास करते हैं ..वे भूल जाते हैं हमारे राहुल जी चट्टानी- कड़ाई जैसी मानसिक सबलता रखते हैं .दादी व् पिता को हादसों में खो देने के बावजूद वे स्वयं जन सेवा  हेतु  राजनीति में आये और सन 2004 से निरंतर जनसेवा में लगे  हुए हैं .....बिना किसी पद के लालच के .
राहुल जी द्वारा किये जाने वाले जनसंपर्क को ''नाटक ''का नाम   देने वाले ये भूल जाते हैं कि-राहुल जी इन आक्षेपों से घबराते नहीं है .वे ऐसे कुत्सित बयां देने वालों को चुनौती देते हुए ठीक ही तो कहते हैं-''यदि ये नाटक है तो ये चलता  रहेगा ''.उत्तर  प्रदेश में मिले जनादेश को भी उन्होंने बड़ी शालीनता के साथ स्वीकार किया  पर मीडिया ने  राहुल जी की आलोचना को ही स्थान दिया ...उनकी मेहनत को नहीं.
हाल ही में सर्वोच्च  न्यायलय  ने  राहुल जी के खिलाफ  फर्जी बलात्कार  के मामले  में साजिश   करने वाले व्यक्ति पर भारी अर्थ दंड लगाया है और राहुल जी को क्लीन चिट दी है  .राहुल जी के शत्रुओं को जान लेना चाहिए कि ऐसी घटिया कूटनीति से  वे  राहुल जी की छवि  को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकते हैं राहुल जी ऐसी सभी से यही कहते नज़र आते हैं -
'' पत्थर ही  है मारना है तो देख ले पहले
जो सामने खड़ा है वो शख्स कौन है !''
गरिमामयी   व् आकर्षक व्यक्तित्व  के स्वामी राहुल जी से यदि आप कभी मिले तो ये अवश्य पूछियेगा कि ''आखिर वे इतने अनर्गल आक्षेपों को ..........कटु आलोचनाओं को .... को कैसे सह जाते हैं? .विपरीत परिस्थितियों  में इतने शालीन  कैसे रह पाते हैं ?

राहुल जी इसी तरह भारतीय राजनीति में सक्रिय भूमिका निभाते रहें और आने वाले दिनों में भारतीय जनता के हितार्थ अच्छे निर्णय लेकर देश को प्रगति पथ पर अग्रसर करने में अपना सार्थक योगदान प्रदान करें ऐसी प्रभु से कामना  है .
शिखा कौशिक

6 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

शिखा जी आपके इस उत्कृष्ट आलेख के माध्यम से राहुल गाँधी जी के बारे में विस्तार से जानने को मिला है और हमारी भी यही आकांक्षा है कि राहुल गाँधी जल्द ही देश का नेतृत्व करें और अपने उन विरोधियों को जो बे सिर पैर की बातें करते हैं उनकी बोलती को बंद कर दें.

रविकर ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

Dheerendra singh Bhadauriya ने कहा…

राहुल गाँधी जी की बहुत अच्छी जानकारी देने के लिये आभार,,,,

RECENT POST...: विजयादशमी,,,

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

धन्य है भारत देश इस मंद मति बालक की भी प्रबुद्ध लोग आरती उतारने लगे .स्विस बैंक से पैसा निकाल ज़नाब इंडोनेशिया ,मलेशिया में अपार संपत्ति खरीद चुकें हैं .क्योंकि स्विस तो अब निशाने पे है .जिसे लिंक चाहिए भेजे ई -मेल @ -veerubhai1947@gmail.com

Manu Tyagi ने कहा…

अगर आप इनकी पढाई के बारे में जरा विस्तार से बता देती तो और अच्छा होता

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

आईये मिलते हैं श्री राहुल गाँधी जी से -
डॉ शिखा कौशिक ''नूतन ''
(विचारों का चबूतरा )पर

अब तो लोग रावण की भी आरती उतारने लगें हैं .भारत के कई अंचलों में बाकायदा रावण की पूजा होती है .कोई कंस की करना चाहे उसकी भी करे .जिसने पूजा करने की ठान ही ली है उसे उसके इरादे से भला कौन डिगा सकता है .
जो भी गुण शिखा जी ने राहुल बाबा में बताएं हैं वह सारे गुण और योग्यताएं उनमें होंगी .लेकिन माननीय सुब्रामनियम स्वामी ने तो यह खुलासा किया था ये अपनी पढ़ाई बीच में छोडके चले आये थे .

बेशक वह भारत के इतिहास और भूगोल ,और परम्परा को छोड़के बाकी सब ज्ञान सरणियों के माहिर होंगें .अंतर -राष्ट्रीय क्या वह अंतर -कोस्मिक ज्ञान के भंडार हैं .लेकिन भारत के भूगोल और इतिहास और परम्परा के बारे में वह कुछ नहीं जानतें हैं .

बाकी कोई किसी की पूजा करे ,उसे किसी तर्क से प्रभावित नहीं किया जा सकता .हम जानना चाहते हैं यह राहुल शब्द कहीं राहु से तो नहीं बना प्रत्यय लगाके जैसे मंजु से मंजुल ,मधु से मधुर बन जाता है .भाषा विद महेंद्र श्रीवास्तव इसपर प्रकाश डालें .मुझे तो पता नहीं है .वे भाषा विद हैं वही बताएं .