समर्थक

शनिवार, 15 नवंबर 2014

जब भी जी चाहे नयी दुनिया बसा लेते हैं मोदी !


जब  भी जी  चाहे नयी दुनिया  बसा  लेते हैं लोग ! 
एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते हैं लोग !   
लगातार नेहरू जी का कद भारतीय -जनमानस के दिलो दिमाग में घटाने का कुत्सित प्रयास करने वाले आज नेहरू जन्म -शताब्दी कार्यक्रम में श्री मोदी  को न बुलाये जाने पर कॉंग्रेस की आलोचना कर रहे हैं पर एक भी अखबार ,एक भी मीडिया चैनल ये कहता नहीं दिख रहा कि आखिर नेहरू जी में ऐसा क्या बुरा था जो श्री मोदी लोक-सभा चुनाव  २०१४ से पहले उन्हें जिस हद तक जाकर कोस सकते थे .. कोसा और अब ये दावा ठोका जा रहा है कि नेहरू किसी एक की जागीर नहीं है .यदि उन महान आलोचकों को यह याद न हो तो ये पढ़ें -
* -At a convention of Chief Ministers of BJP-ruled states in Maharashtra last year, Modi had said "Jawaharlal Nehru was said to be very fond of kids and his birthday has been christened as Children's Day. Kids called him Chacha Nehru and it brings images of a benevolent Nehru flooding our minds. But what good has it done for the kids?"

*-Hyderabad: Paying glowing tributes to the first home minister of the country Sardar Vallabhbhai Patel at a function here, Gujarat Chief Minister Narendra Modi on Sunday criticised Jawaharlal Nehru, blaming him for the unresolved Kashmir issue.-HE SAID -"Every generation of Indians has felt that he should have been the first Prime Minister of the country, which (this perception) is a great tribute in itself. After Chanakya, it was Sardar who strove to integrate the country," Modi said.
श्री मोदी व् इनके समान  अन्य नेहरू जी के आलोचकों को आज क्यों उनकी विरासत हथियाने का विचार आ रहा है ये शीशे की तरह साफ़ है . ये समझ चुके हैं कि नेहरू भारतीयों की आत्मा में बसते हैं और इनका सम्मान किये बिना लोकप्रियता के शिखर पर ज्यादा दिन नहीं टिका जा सकता है .इसीलिए छद्म सम्मान का दिखावा कर आज ये नेहरू जी पर अहसान जताते हुए उनकी १२५ वी जयंती के अनेक कार्यक्रम  आयोजित करने का नाटक कर रहे हैं और कॉंग्रेस के  समर्थकों को यह भी दिखलाने का प्रयास कर रहे हैं कि देखों हम कितने महान हैं जो तुम्हारे लीडर को सम्मान दे रहे हैं . गांधी जी को देश-विभाजन के लिए कोसने वाले ये नेता आज अपने मकसद के लिए उनके भक्त बन रहे हैं ताकि सारी दुनिया में गांधी के लिए जो सम्मान है -उसका कुछ अंश ये भी प्राप्त कर ले .गांधी-नेहरू को ऐसे छद्म भक्तों की कोई आवश्यकता नहीं है और न ही हमारे जैसे भारतीयों को आप मूर्ख  बना सकते हैं .हम भी जानते  हैं कि अंतरात्मा में परिवर्तन  इतनी  जल्दी  नहीं आता .गांधी व् नेहरू जी को सम्मान देने के लिए तथाकथित ये छद्म भक्त अपनी आत्मा को कष्ट न दें ऐसी इनसे प्रार्थना है .

शिखा कौशिक 'नूतन' 

कोई टिप्पणी नहीं: