समर्थक

शुक्रवार, 8 मार्च 2013

महिला दिवस त्यौहार -अख़बारों में विज्ञापनों की बहार

 महिला दिवस त्यौहार -अख़बारों में विज्ञापनों की बहार

महिला दिवस पर अख़बारों में विज्ञापनों के माध्यम से जो शुभकामनाओं की बहार आई है आइये आप भी देखिये -


प्रियंका  कर रही हैं प्रचार स्कूटी का ..बहाना महिला दिवस का !!

 
प्रियंका जी दिल की सुने या बैंक बैलेंस की ?

बढ़िया बात कही है बैंक ऑफ बड़ोदा ने ...खोल लो एक खाता इस बैंक में 


एल .आई सी .भी क्यों रहे पीछे ?
भाई मैसेज तो अच्छा है पर आपके मसालों की गुणवत्ता का प्रमाण ये तो नहीं !
बाज़ार को तो हर मौका भुनाना ही है !
आभूषण प्रियता नारी कमजोरी -ज्वलर्स की शुभकामनायें तो मिलेंगी जरूरी !
ये है आज की नारी सोच को दर्शाता विज्ञापन !
शिखा कौशिक 'नूतन '
              

4 टिप्‍पणियां:

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

इनमे बाज़ारी सोच ज्यादा और महिला दिवस की सार्थकता कम दिख रही है.....

शालिनी कौशिक ने कहा…

रोचक प्रस्तुति जबरदस्त कटाक्ष आभार प्रथम पुरुस्कृत निबन्ध -प्रतियोगिता दर्पण /मई/२००६ यदि महिलाएं संसार पर शासन करतीं -अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस आज की मांग यही मोहपाश को छोड़ सही रास्ता दिखाएँ . ''शालिनी''करवाए रु-ब-रु नर को उसका अक्स दिखाकर .

Rajendra Kumar ने कहा…

सब दिखावा है,अखबारों को विज्ञापन और पैसा चाहिए.

India Darpan ने कहा…

बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
बधाई

इंडिया दर्पण
पर भी पधारेँ।
*प्यार भरी होली*
शुभकामनायें !!