समर्थक

शुक्रवार, 25 मई 2012

मध्यावधि- चुनाव कौन चाहता है ?

मध्यावधि- चुनाव कौन चाहता है ?

जनता...नहीं केवल अवसरवादी विपक्षी दल .


जिनके लिए है 


राजनीति खिलता हुआ कमल ;


जनता को पता है 


ये है दलदल 


जिसमे कोई भी हो दल 


जनता के साथ करता है छल ;


समस्याओं को सुलझाने में 


रहते हैं विफल ;


हर काम को टाल देते हैं 


आज नहीं कल

 ,
फिर चुनावों के लिए 


क्यों हो रहे विकल ;


शायद लग जाये लॉटरी 


और खटारा गाड़ी भी 


इस बार धक्के देकर 


जाये निकल 

.
shikha kaushik

3 टिप्‍पणियां:

रविकर फैजाबादी ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति |
आभार ||

India Darpan ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


हैल्थ इज वैल्थ
पर पधारेँ।

सुधाकल्प ने कहा…

बहुत खूब !राजनीति घुटाले पर अच्छी -खासा व्यंग |