समर्थक

रविवार, 12 मई 2013

मेरा ब्लड ग्रुप है -वन्देमातरम और आपका ?


   

मेरा ब्लड ग्रुप है -वन्देमातरम और आपका ?




हिंदुस्तानी दिल पाता है गाकर इसे सुकून !
'वन्देमातरम' बहता है मेरी रगों में बनकर खून !


वन्देमातरम वन्देमातरम गूंजे मेरे कानों में ,
वन्देमातरम वन्देमातरम रहता है मेरे अधरों पे ,
वन्देमातरम बन सुगंध सांसों को है महकता ,
वन्देमातरम अमृत सम जीवन में है घुल जाता ,
वन्देमातरम बिन गाये जीवन में सब कुछ सून ! 
'वन्देमातरम' बहता है मेरी रगों में बनकर खून !



वन्देमातरम आजादी की  जंग  की  याद  दिलाता  ,
वन्देमातरम वतन परस्ती की  है जोत  जगाता  ,
वन्देमातरम गाकर जिह्वा  पाती है आराम ,
वन्देमातरम में अल्लाह  इसमें है श्री राम ,
देशभक्त का यही है मजहब ये ही है कानून !
'वन्देमातरम' बहता है मेरी रगों में बनकर खून !



धरा से लेकर अम्बर तक हम आज गूंजा देंगें ,
वन्देमातरम का परचम जग में फहरा देंगें ,
वन्देमातरम पर आपत्ति जिस गद्दार को होगी ,
ऐसे हर दुश्मन का हम दिल दहला देंगें ,
वन्देमातरम का सर चढ़कर बोले आज जूनून !
'वन्देमातरम' बहता है मेरी रगों में बनकर खून !

   शिखा कौशिक 'नूतन '




3 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और सार्थक रचना। बधाई स्वीकारें। सादर,

Anurag Sharma ने कहा…

वन्दे मातरम!

Rajendra Kumar ने कहा…

देशवासियों को समर्पित उत्कृष्ट रचना.