समर्थक

गुरुवार, 5 जुलाई 2012

''नेता जिन्दा बाद ???



भाईयो और बहनों   
                       हम चमचे हैं नेता जी   .इलेक्शन का  टाइम  है .नेताजी  ने आपके लिए जो भेजा है उसे स्वीकार करे और कहिये -
                ''नेता जिन्दा बाद   ''
                    चार जलेबी खाकर बोलो 'नेता जिंदाबाद ''
                    तीन समोसे खाकर बोलो 'नेता जिंदाबाद'
                     चाट पकौड़ी खाकर बोलो 'नेता जिंदाबाद '
                     सदी कम्बल लेकर बोलो 'नेता जिंदाबाद ''
नेता जिंदाबाद ..............................नेता जिंदाबाद 
टीन कनस्तर बजा कर बोलो 'नेता जिंदाबाद'
ढोल नगाड़े बजाकर बोलो' नेता जिंदाबाद '
वोट  के बदले नोट कमा लो 'नेता जिंदाबाद'
दारू पीकर कहो झूमकर 'नेता जिंदाबाद'
नेता जिंदाबाद ................................नेता जिंदाबाद 
                            रुकिए  ....हमें  भी जनता की तरफ  से कुछ कहना है .सुनिए   -
                            पानी  बिजली को तरसे हम 'नेता जिंदाबाद '
                          लूट डकैती  रोज है होती 'नेता जिंदाबाद'
                        मंहगाई  ने कमर तोड़ दी 'नेता जिंदाबाद '
                         पांच साल में आई याद  'नेता जिंदाबाद '
नेता हैं आबाद और जनता है बर्बाद 
फिर भी नेता जिंदाबाद ???
                        इसलिए भाईयो और बहनों -भ्रष्टाचार ...भय बढ़ाने वाले नेता को वोट मत दीजिये .सोच  समझ कर मतदान करें !
                                                    जय hind !
                                                  जय भारत !
                                                                  शिखा कौशिक 
                                     [नेता जी क्या कहते हैं ]

                                     

2 टिप्‍पणियां:

रविकर फैजाबादी ने कहा…

nice

शालिनी कौशिक ने कहा…

bhai ye jalebi to ham bhi khayenge tabhi to muhn se niklega netaji zindabad.bahut khoob shikha ji.